Back to headlines

img

यूपी: मुरादाबाद में मंदिर से मिली महंत की लाश, परिजन बोले- जांच हो

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद जिले के गलशहीद थाना क्षेत्र में शनिवार को मंदिर में एक महंत की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई. घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस भी मौके पर पहुंची. पुलिस ने मौके पर पहुंचकर शव का पंचनामा भर पोस्टमार्टम को भेजा दिया है. राष्ट्रीय योगी सेना का कहना है कि वे खनन के खिलाफ बोलते थे और उनकी मौत संदिग्ध परिस्थितियों में हुई है.सूचना मिलने पर महंत के रिश्तेदार भी पहुंच गए थे. उनका कहना है कि महंत की मौत संदिग्ध परिस्थितियों में हुई है क्योंकि उनका मोबाइल फोन रात से ही बंद आ रहा था. पुलिस अधिकारी का कहना है कि महंत के शरीर पर कोई चोट के किसी तरह के कोई निशान नहीं पाए गए हैं. फिलहाल पोस्ट मार्टम रिपोर्ट के आधार पर ही आगे की कार्रवाई की जाएगी.सुबह 8 बजे सूचना मिलीः परिजनमुरादाबाद के गंगा प्रदूषण मुक्ति मोर्चा के संस्थापक और महंत रामदास का शव थाना गलशहीद इलाके के एक मंदिर में मिलने से हड़कंप मच गया. सूचना पर पहुंची पुलिस ने आसपास के लोगों से जानकारी करने के बाद शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया.

महंत रामदास के परिजनों ने भी मौत को संदिग्ध बताया क्योंकि रात से उनका मोबाइल बंद आ रहा था. महंत रामदास के परिजन निर्मल गुप्ता ने बताया कि मुझे सुबह साढ़े 8 बजे करीब दो व्यक्ति सूचना देने आए कि महंत रामदास की बॉडी बाल्मीकि मंदिर में पड़ी है. ये अहाता कहलाता है और थाना गलशहीद में लगता है. जो दो लोग आए थे वे मंदिर के ही थे लेकिन उनका नाम नहीं जानता.उन्होंने कहा कि मेरा मानना है कि रात से मोबाइल स्विच ऑफ आ रहा हैं. मोबाइल नहीं मिला है. पुलिस भी मना कर रही है कि इनके पास मोबाइल नहीं था, इसीलिए मुझे कुछ संदिग्ध लगता है कि मृत्यु स्वाभाविक नहीं लगती.

News source ~ AajTak